Ganesh Chalisa

Ganesh Chalisa – Hindi and English text

To all our readers of mytempletrips. Thank you for visiting our website. Please find below Shri Ganesh Chalisa with text in Hindi and English.

Shri Ganesh Chalisa / श्री गणेश चालीसा

ganpati chalisa

Ganesh chalisa in hindi / गणेश चालीसा हिंदी में

जय गणपति सद्गुण सदन कविवर बदन कृपाल।

विघ्न हरण मंगल करण जय जय गिरिजालाल॥

जय जय जय गणपति राजू। मंगल भरण करण शुभ काजू॥

जय गजबदन सदन सुखदाता। विश्व विनायक बुद्धि विधाता॥

वक्र तुण्ड शुचि शुण्ड सुहावन। तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन॥

राजित मणि मुक्तन उर माला। स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला॥

पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं। मोदक भोग सुगन्धित फूलं॥

सुन्दर पीताम्बर तन साजित। चरण पादुका मुनि मन राजित॥

धनि शिवसुवन षडानन भ्राता। गौरी ललन विश्व-विधाता॥

ऋद्धि सिद्धि तव चँवर डुलावे। मूषक वाहन सोहत द्वारे॥

कहौ जन्म शुभ कथा तुम्हारी। अति शुचि पावन मंगल कारी॥

एक समय गिरिराज कुमारी। पुत्र हेतु तप कीन्हा भारी॥

भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा। तब पहुंच्यो तुम धरि द्विज रूपा।

अतिथि जानि कै गौरी सुखारी। बहु विधि सेवा करी तुम्हारी॥

अति प्रसन्न ह्वै तुम वर दीन्हा। मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा॥

मिलहि पुत्र तुहि बुद्धि विशाला। बिना गर्भ धारण यहि काला॥

गणनायक गुण ज्ञान निधाना। पूजित प्रथम रूप भगवाना॥

अस कहि अन्तर्धान रूप ह्वै। पलना पर बालक स्वरूप ह्वै॥

बनि शिशु रुदन जबहि तुम ठाना। लखि मुख सुख नहिं गौरि समाना॥

सकल मगन सुख मंगल गावहिं। नभ ते सुरन सुमन वर्षावहिं॥

शम्भु उमा बहुदान लुटावहिं। सुर मुनि जन सुत देखन आवहिं॥

लखि अति आनन्द मंगल साजा। देखन भी आए शनि राजा॥

निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं। बालक देखन चाहत नाहीं॥

गिरजा कछु मन भेद बढ़ायो। उत्सव मोर न शनि तुहि भायो॥

कहन लगे शनि मन सकुचाई। का करिहौ शिशु मोहि दिखाई॥

नहिं विश्वास उमा कर भयऊ। शनि सों बालक देखन कह्यऊ॥

पड़तहिं शनि दृग कोण प्रकाशा। बालक शिर उड़ि गयो आकाशा॥

गिरजा गिरीं विकल ह्वै धरणी। सो दुख दशा गयो नहिं वरणी॥

हाहाकार मच्यो कैलाशा। शनि कीन्ह्यों लखि सुत को नाशा॥

तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधाए। काटि चक्र सो गज शिर लाए॥

बालक के धड़ ऊपर धारयो। प्राण मन्त्र पढ़ शंकर डारयो॥

नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे। प्रथम पूज्य बुद्धि निधि वर दीन्हे॥

बुद्धि परीक्षा जब शिव कीन्हा। पृथ्वी की प्रदक्षिणा लीन्हा॥

चले षडानन भरमि भुलाई। रची बैठ तुम बुद्धि उपाई॥

चरण मातु-पितु के धर लीन्हें। तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें॥

धनि गणेश कहि शिव हिय हरषे। नभ ते सुरन सुमन बहु बरसे॥

तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई। शेष सहस मुख सकै न गाई॥

मैं मति हीन मलीन दुखारी। करहुँ कौन बिधि विनय तुम्हारी॥

भजत रामसुन्दर प्रभुदासा। लख प्रयाग ककरा दुर्वासा॥

अब प्रभु दया दीन पर कीजै। अपनी शक्ति भक्ति कुछ दीजै॥

दोहा

श्री गणेश यह चालीसा पाठ करें धर ध्यान। नित नव मंगल गृह बसै लहे जगत सन्मान॥

सम्वत् अपन सहस्र दश ऋषि पंचमी दिनेश। पूरण चालीसा भयो मंगल मूर्ति गणेश॥

Ganesh chalisa in english

Jai Ganapati Sadguna Sadan,
Kavivar Badan Kripaal,
Vighna Haran Mangal Karan,
Jai Jai Girijaalaal

Jai Jai Jai Ganapati Ganaraaju,
Mangal Bharana Karana Shubha Kaajuu,
Jai Gajbadan Sadan Sukhdaata,
Vishva Vinaayaka Buddhi Vidhaataa

VakraTunda Shuchi Shunda Suhaavana,
Tilaka Tripunda bhaal Man Bhaavan,
Raajata Mani Muktana ura maala,
Swarna Mukuta Shira Nayana Vishaalaa

Pustak Paani Kuthaar Trishuulam,
Modaka Bhoga Sugandhit Phuulam,
Sundara Piitaambar Tana Saajit,
Charana Paadukaa Muni Man Raajit

Dhani Shiva Suvan Shadaanana Bhraataa,
Gaurii Lalan Vishva-Vikhyaata,
Riddhi Siddhi Tav Chanvar Sudhaare,
Mooshaka Vaahan Sohat Dvaare

Kahaun Janma Shubh Kathaa Tumhari,
Ati Shuchi Paavan Mangalkaarii,
Ek Samay Giriraaj Kumaarii,
Putra Hetu Tapa Kiinhaa Bhaarii

Bhayo Yagya Jaba Poorana Anupaa,
Taba Pahunchyo Tuma Dhari Dvija Rupaa,
Atithi Jaani Kay Gaurii Sukhaarii,
Bahu Vidhi Sevaa Karii Tumhaarii

Ati Prasanna Hvai Tum Vara Diinhaa,
Maatu Putra Hit Jo Tap Kiinhaa,
Milhii Putra Tuhi, Buddhi Vishaala,
Binaa Garbha Dhaarana Yahi Kaalaa

Gananaayaka Guna Gyaan Nidhaanaa,
Puujita Pratham Roop Bhagavaanaa,
Asa Kehi Antardhyaana Roop Hvai,
Palanaa Par Baalak Svaroop Hvai

BaniShishuRudanJabahiTum Thaanaa,
Lakhi Mukh Sukh Nahin Gauri Samaanaa,
Sakal Magan Sukha Mangal Gaavahin,
Nabha Te Suran Suman Varshaavahin

Shambhu Umaa Bahudaan Lutaavahin,
Sura Munijana Suta Dekhan Aavahin,
Lakhi Ati Aanand Mangal Saajaa,
Dekhan Bhii Aaye Shani Raajaa

Nija Avaguna Gani Shani Man Maahiin,
Baalak Dekhan Chaahat Naahiin,
Girijaa Kachhu Man Bheda Badhaayo,
Utsava Mora Na Shani Tuhi Bhaayo

Kahana Lage Shani Man Sakuchaai,
Kaa Karihau Shishu Mohi Dikhayii,
Nahin Vishvaasa Umaa Ura Bhayauu,
Shani Son Baalak Dekhan Kahyau

Padatahin Shani Drigakona Prakaashaa,
Baalak Sira Udi Gayo Aakaashaa,
Girajaa Girii Vikala Hvai Dharanii,
So Dukha Dashaa Gayo Nahin Varanii

Haahaakaara Machyo Kailaashaa,
Shani Kiinhon Lakhi Suta Ko Naashaa,
Turat Garuda Chadhi Vishnu Sidhaaye,
Kaati Chakra So GajaShira Laaye

Baalak Ke Dhada Uupar Dhaarayo,
Praana Mantra Padhi Shankar Daarayo,
Naama’Ganesha’ShambhuTabaKiinhe,
Pratham Poojya Buddhi Nidhi Vara Diinhe

Buddhi Pariikshaa Jab Shiva Kiinhaa,
Prithvii Kar Pradakshinaa Liinhaa,
Chale Shadaanana Bharami Bhulaai,
Rache Baithii Tum Buddhi Upaai

Charana Maatu-Pitu Ke Dhara Liinhen,
Tinake Saat Pradakshina Kiinhen
Dhani Ganesha Kahi Shiva Hiye Harashyo,
Nabha Te Suran Suman Bahu Barse

Tumharii Mahima Buddhi Badaai,
Shesha Sahasa Mukha Sake Na Gaai,
Main Mati Heen Maliina Dukhaarii,
Karahun Kaun Vidhi Vinaya Tumhaarii

Bhajata ‘Raamsundara’ Prabhudaasaa,
Jaga Prayaaga Kakraa Durvaasaa,
Ab Prabhu Dayaa Deena Par Keejai,
Apnii Bhakti Shakti Kuchha Deejai

ll Dohaa ll

Shrii Ganesha Yeh Chaalisaa, Paatha Karre Dhara Dhyaan l
Nita Nav Mangala Graha Base, Lahe Jagat Sanmaana ll


Anup jalota ganesh chalisa

Please find the link below from youtube

Suresh Wadkar Ganesh Chalisa

Below is the link of the chalisa by Shri Suresh Wadkar

Anuradha Paudwal Ganesh Ghalisa


You may also like : Shiv Chalisa


 1,420 total views,  21 views today

Ganesh ji ki aarti

Ganesh ji ki aarti – Ganesh aarti in Hindi, English and Marathi text

Jai Ganpati Bappa ! To our readers of mytempletrips – the Ganesh Ji Ki Aarti lyrics in Hindi , English ( Jai Ganesh Jai Ganesh Jai Ganesh Deva ) and also ganpati aarti Lyrics in Marathi ( sukhakarta dukhaharta )


Ganesh Aarti in hindi / गणेश आरती हिंदी में – jay ganesh jay ganesh deva

Please find Ganesh Ji Ki aarti lyrics in hindi – jai ganesh jai ganesh , jai ganesh deva

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।

एकदंत, दयावन्त, चार भुजाधारी,
माथे सिन्दूर सोहे, मूस की सवारी। 

पान चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा,
लड्डुअन का भोग लगे, सन्त करें सेवा।। ..

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश, देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया,
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया। 

‘सूर’ श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा।। 
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा .. 
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा। 

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी। 
कामना को पूर्ण करो जय बलिहारी।


Ganesh ji ki aarti English Lyrics

Please find Ganesh Ji Ki Aarti text in english

Jai Ganesh, Jai Ganesh,Jai Ganesh Deva।

Mata Jaki Parvati,Pita Mahadeva॥

Ekadanta Dayavanta,Char Bhujadhaari।

Mathe Par Tilak Sohe,Muse Ki Savari॥

Haar Chade, Phool Chade ,Aur Chade Meva।

Ladduan Ka Bhog Lage,Sant Karein Seva॥

Jai Ganesh, Jai Ganesh,Jai Ganesh Deva।

Mata Jaki Parvati,Pita Mahadeva॥

Andhe Ko Aankh Deta,Korhina Ko Kaya।

Banjhan Ko Putra Deta,Nirdhan Ko Maya॥

‘Soora’ Shyama Sharana Aaye,Saphal Kije Seva।

Mata Jaki Parvati,Pita Mahadeva॥

Deenana Ki Laaj Rakho,Shambhu Sutavari।

Kaamana Ko Poorna KaroJaga Balihari॥

Jai Ganesh, Jai Ganesh,Jai Ganesh Deva।

Mata Jaki Parvati,Pita Mahadeva॥

Sukhakarta Dukhaharta – गणेश आरती मराठी में – Ganesh Aarti in Maathi

Please find below Ganesh Ji Ki Aarti in Marathi

सुखकर्ता दुःखहर्ता वार्ता विघ्नाची

नुरवी पुरवी प्रेम कृपा जयाची

सर्वांगी सुंदर उटी शेंदुराची

कंठी झलके माल मुक्ता फलांची।

जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

जयदेव जयदेव जय मंगलमूर्ति

दर्शन मात्रे मन कामना पूर्ती। जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

रत्नखचित फरा तुज गौरीकुमरा

चंदनाची उटी कुमकुम केशरा

हीरे जड़ित मुकुट शोभतो बरा

रुणझुणती नूपुरे चरणी घागरिया।

जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

जयदेव जयदेव जय मंगलमूर्ति

दर्शन मात्रे मन कामना पूर्ती। जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

लम्बोदर पीताम्बर फणिवर बंधना

सरल सोंड वक्र तुंड त्रिनयना

दास रामाचा वाट पाहे सदना

संकटी पावावे निर्वाणी रक्षावे सुर वर वंदना।

जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

जयदेव जयदेव जय मंगलमूर्ति

दर्शन मात्रे मन कामना पूर्ती। जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव ।


Anuradha paudwal jai ganesh deva aarti

Please find the link below of Ganpati ji ki aarti from Anuradha Paudwal

Amitabh Bachchan shree siddhivinayak mantra and aarti

This video from none other than Shri Amitabh Bachchan ji – Amitabh Bachchan shree siddhivinayak mantra and aarti


You may also like : 108 names of Lord Ganesha


 1,460 total views,  26 views today

108 Names of Ganesha

108 Names of Ganesha – Bhagwan Ganesh ji ke 108 Naam ( with meaning – in hindi & english )

To all our readers of mytempletrips we bring to you 108 names of Ganesha. The 108 names of Lord Ganesha which pleases Lord Ganesh and relieves all suffering.

108 गजानन नाम जो श्री गणेश को प्रसन्न करते हैं और हर लेते हैं सारे कष्ट

108 Names for Lord Ganesha

So friends please find Lord Ganpati 108 names in english and hindi ( 108 names of ganesha in Hindi & 108 names of ganesha in English)

108 names of ganesha in Hindi

1. बालगणपति : सबसे प्रिय बालक
2. भालचन्द्र : जिसके मस्तक पर चंद्रमा हो
3. बुद्धिनाथ : बुद्धि के भगवान
4. धूम्रवर्ण : धुंए को उड़ाने वाले 
5. एकाक्षर : एकल अक्षर
6. एकदन्त: एक दांत वाले
7. गजकर्ण : हाथी की तरह आंखों वाले
8. गजानन: हाथी के मुख वाले भगवान
9. गजवक्र : हाथी की सूंड वाले 
10. गजवक्त्र:  हाथी की तरह मुंह है
11. गणाध्यक्ष : सभी जनों के मालिक
12. गणपति : सभी गणों के मालिक
13. गौरीसुत : माता गौरी के बेटे 
14. लम्बकर्ण : बड़े कान वाले देव
15. लम्बोदर : बड़े पेट वाले 
16. महाबल : अत्यधिक बलशाली  
17. महागणपति : देवादिदेव
18. महेश्वर: सारे ब्रह्मांड के भगवान
19. मंगलमूर्ति : सभी शुभ कार्यों के देव
20. मूषकवाहन : जिनका सारथी मूषक है
21. निदीश्वरम : धन और निधि के दाता
22. प्रथमेश्वर : सब के बीच प्रथम आने वाले 
23. शूपकर्ण : बड़े कान वाले देव
24. शुभम : सभी शुभ कार्यों के प्रभु
25. सिद्धिदाता:  इच्छाओं और अवसरों के स्वामी
26. सिद्दिविनायक : सफलता के स्वामी
27. सुरेश्वरम : देवों के देव। 
28. वक्रतुण्ड : घुमावदार सूंड वाले 
29. अखूरथ : जिसका सारथी मूषक है
30. अलम्पता : अनन्त देव। 
31. अमित : अतुलनीय प्रभु
32. अनन्तचिदरुपम : अनंत और व्यक्ति चेतना वाले 
33. अवनीश : पूरे विश्व के प्रभु
34. अविघ्न : बाधाएं हरने वाले। 
35. भीम : विशाल
36. भूपति : धरती के मालिक  
37. भुवनपति: देवों के देव। 
38. बुद्धिप्रिय : ज्ञान के दाता 
39. बुद्धिविधाता : बुद्धि के मालिक
40. चतुर्भुज: चार भुजाओं वाले
41. देवादेव : सभी भगवान में सर्वोपरि 
42. देवांतकनाशकारी: बुराइयों और असुरों के विनाशक
43. देवव्रत : सबकी तपस्या स्वीकार करने वाले
44. देवेन्द्राशिक : सभी देवताओं की रक्षा करने वाले
45. धार्मिक : दान देने वाले 
46. दूर्जा : अपराजित देव
47. द्वैमातुर : दो माताओं वाले
48. एकदंष्ट्र: एक दांत वाले
49. ईशानपुत्र : भगवान शिव के बेटे
50. गदाधर : जिनका हथियार गदा है
51. गणाध्यक्षिण : सभी पिंडों के नेता
52. गुणिन: सभी गुणों के ज्ञानी
53. हरिद्र : स्वर्ण के रंग वाले
54. हेरम्ब : मां का प्रिय पुत्र
55. कपिल : पीले भूरे रंग वाले 
56. कवीश : कवियों के स्वामी
57. कीर्ति : यश के स्वामी
58. कृपाकर : कृपा करने वाले
59. कृष्णपिंगाश : पीली भूरी आंख वाले
60. क्षेमंकरी : माफी प्रदान करने वाला
61. क्षिप्रा : आराधना के योग्य
62. मनोमय : दिल जीतने वाले
63. मृत्युंजय : मौत को हराने वाले
64. मूढ़ाकरम : जिनमें खुशी का वास होता है
65. मुक्तिदायी : शाश्वत आनंद के दाता
66. नादप्रतिष्ठित : जिन्हें संगीत से प्यार हो
67. नमस्थेतु : सभी बुराइयों पर विजय प्राप्त करने वाले
68. नन्दन: भगवान शिव के पुत्र  
69. सिद्धांथ: सफलता और उपलब्धियों के गुरु
70. पीताम्बर : पीले वस्त्र धारण करने वाले 
71. प्रमोद : आनंद   72. पुरुष : अद्भुत व्यक्तित्व
73. रक्त : लाल रंग के शरीर वाले 
74. रुद्रप्रिय : भगवान शिव के चहेते
75. सर्वदेवात्मन : सभी स्वर्गीय प्रसाद के स्वीकर्ता  
76) सर्वसिद्धांत : कौशल और बुद्धि के दाता
77. सर्वात्मन : ब्रह्मांड की रक्षा करने वाले 
78. ओमकार : ओम के आकार वाले 
79. शशिवर्णम : जिनका रंग चंद्रमा को भाता हो
80. शुभगुणकानन : जो सभी गुणों के गुरु हैं
81. श्वेता : जो सफेद रंग के रूप में शुद्ध हैं 
82. सिद्धिप्रिय : इच्छापूर्ति वाले
83. स्कन्दपूर्वज : भगवान कार्तिकेय के भाई
84. सुमुख : शुभ मुख वाले
85. स्वरूप : सौंदर्य के प्रेमी
86. तरुण : जिनकी कोई आयु न हो
87. उद्दण्ड : शरारती
88. उमापुत्र : पार्वती के पुत्र 
89. वरगणपति : अवसरों के स्वामी
90. वरप्रद : इच्छाओं और अवसरों के अनुदाता
91. वरदविनायक: सफलता के स्वामी
92. वीरगणपति : वीर प्रभु
93. विद्यावारिधि : बुद्धि के देव
94. विघ्नहर : बाधाओं को दूर करने वाले
95. विघ्नहत्र्ता: विघ्न हरने वाले 
96. विघ्नविनाशन : बाधाओं का अंत करने वाले
97. विघ्नराज : सभी बाधाओं के मालिक
98. विघ्नराजेन्द्र : सभी बाधाओं के भगवान
99. विघ्नविनाशाय : बाधाओं का नाश करने वाले 
100. विघ्नेश्वर :  बाधाओं के हरने वाले भगवान
101. विकट : अत्यंत विशाल
102. विनायक : सब के भगवान
103. विश्वमुख : ब्रह्मांड के गुरु
104. विश्वराजा : संसार के स्वामी
105. यज्ञकाय : सभी बलि को स्वीकार करने वाले 
106. यशस्कर : प्रसिद्धि और भाग्य के स्वामी
107. यशस्विन : सबसे प्यारे और लोकप्रिय देव
108.  योगाधिप : ध्यान के प्रभु 

108 names of ganesha in English

1. Balganpati: One who is dearest child
2. Bhalchandra: One who has moon on his head
3. Budhinath: God of Wisdom
4. DhoomraVarna: One who can blow off smoke
5. Ekakshar : One who is known by a single letter
6. Ekdant: One who has one teeth
7. Gajkarna: One who is Elephant eyed
8. Gajanan: Elephant faced god
9. Gajwakra: God with elephant trunk
10. Gajavaktra:  One with elephant face
11. Ganadhakshya: One who is leader of all people
12. Ganapati: One who is blesses with all gana’s
13. Gaurisut: Mata Gauri’s son
14. Lambkarna: The God with Big Ears
15. Lambodar: one with big belly
16. Mahabal: One who is very very strong
17. Mahaganapathi: Devadidev
18. Maheshwar: Lord of the Universe
19.Mangalamurthy: God of all auspicious works
20.Mushkavahan: Whose charioteer is a mouse
21. Nidiswaram: Donors of Money and Funds
22. Prathameshwar: First among all
23. Shupakarna: Dev with big ears
24. Shubham: Lord of all auspicious actions
25. Siddhidata: Owner of desires and opportunities
26. Siddivinayak: Master of Success
27. Sureswaram: God of Gods.
28. Vakratund: one with curved trunk
29. Akhurath: Whose charioteer is mouse
30. Alampta: Eternal God.
31. Amit: matchless lord
32. Anantachidarupam: One who is Infinite
33. Avnish: Lord of the whole world
34. Avighna: Lord who removes all your obstacles
35. Bheem: Some one who is big
36. Bhupathi: Lord of the earth
37. Bhuvanapati: God of Gods.
38. Budhipriya: Giver of knowledge
39. BudhiVidhata: master of wisdom
40. Chaturbhuja: Lord with fours bhujas
41. Devadeva: paramount in all God
42. DevantakNashkari: Destroyer of Evils and Asuras
43. Devavrata: Who accept austerity
44. Devendrashik: The Protector of All Gods
45. Dharmik
46. Durja: who cannot be defeated
47. Dwaymatur: having two mothers
48. Ekadashshtra: having one teeth
49.Ishanaputra: Son of Lord Shiva
50. Gadadhar: whose weapon is mace
51. GanadhyaShin: Leader of all bodies
52. Gunin: Knowledgeable of all qualities
53. Haridra: Golden colored
54. Heramb: Mother’s Beloved Son
55. Kapil: Some one who is Yellow Brown
56. Kavish: lord of poets
57. Kirti: Lord of Fame
58. Kripakar

  1. Krishnapingash: one with Yellow brown eyed
  2. Kshmankari: forgiver
  3. Kshipra: Worthy of Worship
  4. Manomoy: Heart Winners
  5. Mrityunjaya: Who defeats death
  6. Mudhakaram: Those who live in happiness
  7. Muktidayee: Giver of eternal bliss
  8. Nadpritist: Those who love music
  9. Namasthetu: conquerors of all evils
  10. Nandan: Son of Lord Shiva
  11. Siddhanth: Master of success and achievements
  12. Pitamber: Wearing yellow clothes
  1. Pramod: Anand
  2. Purush : Amazing personality
  3. Rakt: one with red color body
  4. Rudrapriya: Favorite of Lord Shiva
  5. Sarvadevatman: Acceptor of all heavenly offerings
  6. Sarvasiddhanta: giver of skill and intelligence
  7. Sarvatman: The protector of the universe
  8. Omkar: Om shaped
  9. Shasivaranam: whose color is pleasing to the moon
  10. Shubhagunakanan: One who is the master of all virtues
  1. Shweta: Those who are pure as white
  2. Siddhipriya: One who grants all wishes
  3. Skandapurvaj: Brother of Lord Karthikeya
  4. Sumukh: Auspicious ones
  5. Swaroop: one who is beautiful
  6. Tarun: Who has no age
  7. Uddand: Naughty
  8. Umaputra: Son of Parvati
  9. Varganapati: Lord of Opportunities
  10. Varprad: grantor of wishes and opportunities
  11. Varadavinayak: master of success
  12. Virganapati: Veer Prabhu
  13. Vidyavaridhi: God of Wisdom
  14. Vighnahar: Removing obstacles
  15. Vighnahatta: Remover of all obstacles
  16. Disruption: Enders of obstacles
  17. Vighnaraj: the master of all obstacles
  18. Vighnarajendra: Lord of all obstacles
  19. VighnaVinashan: Those who destroy obstacles
  20. Vighneshwar: God who defeats obstacles
  21. Vikat: extremely large
  22. Vinayaka: Lord of all
  23. Vishwamukh: Master of the universe
  24. Vishwaraja: Lord of the Worlds
  25. Yajnakaaya: Those who accept all sacrifices
  26. Yashaskar: the lord of fame and fortune
  27. Yashasvin: The most beloved and popular god
  28. Yogadhip: Lord of meditation

You may also like – 108 names of Lord Shiva



So friends do chant these 108 names of lord Ganesha !

Have a very blessed day!

 2,246 total views,  25 views today

Powerful Durga Mantra

Powerful Durga Mantra – मां दुर्गा के प्रभावशाली मंत्र

Powerful Durga Mantra – It is said that there is great connection of energy in Ma Durga’s worship. Worshiping the Goddess relieves you of all problems. Here are some mantras of worshiping the Goddess in this article, which can give you peace of mind and energy.

मां दुर्गा के प्रभावशाली मंत्र : mytempletrips पे आपका स्वागत है और दोस्तों नीचे दिए गए माँ दुर्गा के मन्त्रों को जरूर ध्यान से जाप करें। ये मंत्र काफी प्रभावशाली है और माँ दुर्गा के ये मंत्र दुखों का नाश करने वाले हैं।

रोग नाश करने वाला मंत्र (Powerful Durga Mantra)

रोगानशेषानपहंसि तुष्टा रुष्टा तु कामान सकलानभीष्टान्।

त्वामाश्रितानां न विपन्नराणां त्वामाश्रिता हाश्रयतां प्रयान्ति।

अर्थातः देवी! तुम प्रसन्न होने पर सब रोगों को नष्ट कर देती हो और कुपित होने पर मनोवांछित सभी कामनाओं का नाश कर देती हो। जो लोग तुम्हारी शरण में जा चुके है। उनको विपत्ति तो आती ही नहीं। तुम्हारी शरण में गए हुए मनुष्य दूसरों को शरण देने वाले हो जाते हैं।

दु:ख-दारिद्र नाश करने वाला मंत्र (Powerful Durga Mantra)

दुर्गे स्मृता हरसि भीतिमशेषजन्तो:। स्वस्थै स्मृता मतिमतीव शुभां ददासि।।

द्रारिद्र दु:ख भयहारिणि का त्वदन्या। सर्वोपकारकारणाय सदाह्यद्र्रचिता।।

ऐश्वर्य, सौभाग्य, आरोग्य, संपदा प्राप्ति एवं शत्रु भय मुक्ति-मोक्ष प्रदान करने वाला मंत्र

ऐश्वर्य यत्प्रसादेन सौभाग्य-आरोग्य सम्पदः।

शत्रु हानि परो मोक्षः स्तुयते सान किं जनै॥

भय नाशक दुर्गा मंत्र (Powerful Durga Mantra)

सर्व स्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्ति समन्विते,

भयेभ्यास्त्रहिनो देवी दुर्गे देवी नमोस्तुते।

स्वप्न में कार्य सिद्धि-असिद्धि जानने के लिए

दुर्गे देवि नमस्तुभ्यं सर्वकामार्थ साधिके।

मम सिद्घिमसिद्घिं वा स्वप्ने सर्व प्रदर्शय।।

अर्थातः शरणागत की पीड़ा दूर करने वाली देवी हम पर प्रसन्न होओ। संपूर्ण जगत माता प्रसन्न होओ। विश्वेश्वरी! विश्व की रक्षा करो। देवी! तुम्ही चराचर जगत की अधिश्वरी हो।

मां के कल्याणकारी स्वरूप का वर्णन

सृष्टिस्थिति विनाशानां शक्तिभूते सनातनि।

गुणाश्रये गुणमये नारायणि! नमोऽस्तुते॥

अर्थातः हे देवी नारायणी! तुम सब प्रकार का मंगल प्रदान करने वाली मंगलमयी हो। कल्याणदायिनी शिवा हो। सब पुरुषार्थों को सिद्ध करने वाली शरणागतवत्सला, तीन नेत्रों वाली एवं गौरी हो, तुम्हें नमस्कार है। तुम सृष्टि पालन और संहार की शक्तिभूता सनातनी देवी, गुणों का आधार तथा सर्वगुणमयी हो। नारायणी! तुम्हें नमस्कार है।



You may also like: 108 names of Ma Durga

 1,717 total views,  25 views today

Lord Shiv Kawach

Shiv Kawach – amogh shiv kavach – शिव कवच

Shiv Kawach, also called as Amogh Shiv Kavach or shiv raksha kavach is a very powerful Raksha Yantra. भगवान शिव का यह यंत्र ऐसा रक्षा कवच है जो मौत को भी मात दे सकता है. Shiv Kawach / Amogh Shiv Kavach is also called as Mahamritunjay Mantra. शिव यंत्र को महामृत्युंजय यंत्र …

Read moreShiv Kawach – amogh shiv kavach – शिव कवच

 6,347 total views,  18 views today

Hanuman Chalisa Lyrics

Hanuman Chalisa – Hanuman Chalisa Lyrics

Jai Shri Ram, Jai Shri Hanuman. For all our readers of mytempletrips, please find the most powerful in world, the Lord Shri Hanuman Chalisa Lyrics. Hanuman Chalisa in Hindi दोहा ( 1 ): श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।।बुद्धिहीन तनु जानिके, …

Read moreHanuman Chalisa – Hanuman Chalisa Lyrics

 7,470 total views,  18 views today

hanuman ji ki aarti

Hanuman ji ki aarti – Aarti Kije Hanuman Lala Ki lyrics in Hindi & English

Hanuman ji ki aarti – Aarti Kije Hanuman Lala Ki lyrics Hanuman ji ki aarti Lyrics in Hindi आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।। जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके।। अनजानी पुत्र महाबलदायी। संतान के प्रभु सदा सहाई। दे बीरा रघुनाथ …

Read moreHanuman ji ki aarti – Aarti Kije Hanuman Lala Ki lyrics in Hindi & English

 8,049 total views,  18 views today

Lord Shiv Bhajan

Lord Shiv Bhajan – Seesh Gang ardhang parvati lyrics in hindi and english

The lord Shiv bhajan Seesh Gang ardhang parvati is quite popular. Please find below Seesh Gang ardhang parvati lyrics in hindi and english. Shiv Bhajan – Seesh Gang ardhang parvati lyrics in hindi To our readers, please find below the lyrics of the popular Lord Shiv Bhajan – Seesh Gang …

Read moreLord Shiv Bhajan – Seesh Gang ardhang parvati lyrics in hindi and english

 11,346 total views,  18 views today

Shiv Aarti

Shiv aarti – Shiv aarti lyrics in Hindi and English

Om Namah Shivay ! friends. Devo ke dev is Mahadev. For all our readers of mytempletrips we bring Shiv aarti , the Shiv aarti lyrics in Hindi and English. Shiv aarti in Hindi – shiv aarti lyrics om jai shiv omkara aarti lyrics in hindi ओम जय शिव ओंकारा, स्वामी …

Read moreShiv aarti – Shiv aarti lyrics in Hindi and English

 10,856 total views,  19 views today

108 Names of Ma Durga

108 Names of Durga – माँ दुर्गा के 108 नाम

माँ दुर्गा के 108 नाम – कहते हैं की रोज माँ दुर्गा के १०८ नामों का जाप करने से शुभ होता है। खासकर नवरात्रों में तो रोज एक बार माँ दुर्गा के 108 नामों ( 108 Names of Durga )का जाप करना चाहिए। 108 Names of Durga सती साध्वी भवप्रीता …

Read more108 Names of Durga – माँ दुर्गा के 108 नाम

 16,798 total views,  24 views today

Ma Skandmata

Ma Skandmata Aarti – माँ स्कंदमाता जी की आरती

Day 5 Navratri is dedicated to Ma Skandmata – माँ स्कंदमाता. mytempletrips wishes its readers a happy Navrti and today we bring to you Ma Skandmata Aarti – माँ स्कंदमाता जी की आरती. नवरात्री के पांचवे दिन माँ स्कंदमाता की आराधना की जाती है। माँ स्‍कंदमाता को वात्‍सल्‍य की मूर्ति …

Read moreMa Skandmata Aarti – माँ स्कंदमाता जी की आरती

 15,544 total views,  1 views today

Ma Kushmanda aarti

Navratri Day 4 – Ma Kushmanda aarti – माँ कूष्माण्डा जी की आरती.

Dsoton, wishing you all once again happy navratri. Today is Day 4 of Navrati dedicated to Ma Kushmanda. We bring you today Ma Kushmanda aarti – माँ कूष्माण्डा जी की आरती. Today is the fourth day of Navratri. On this day, the fourth swaroop of Ma Durga, that is Ma …

Read moreNavratri Day 4 – Ma Kushmanda aarti – माँ कूष्माण्डा जी की आरती.

 12,630 total views,  2 views today

Ma Brahmacharini aarti

Ma Brahmacharini aarti – मां ब्रह्मचारिणी की आरती

Doston, the second day of Navratre is dedicaed to Ma Bramcharini मां ब्रह्मचारिणी. Wishing you all once again a very very happy Navratri. To all pir readers we bring you Ma Brahmacharini aarti मां ब्रह्मचारिणी की आरती. Ma Brahmacharini aarti मां ब्रह्मचारिणी की आरती जय अंबे ब्रह्माचारिणी माता।जय चतुरानन प्रिय …

Read moreMa Brahmacharini aarti – मां ब्रह्मचारिणी की आरती

 12,787 total views,  1 views today

Ma shailputi aarti

Navratri Day 1 Puja Ma Shailputri aarti – नवरात्र में पहले दिन करें माँ शैलपुत्री की पूजा

mytempletrips wishes its readers a very very happy Nvratri pooja. On the first day of navratri Ma Shailputri is worshipped. We bring you the pooja vidhi and Ma Shailputri aarti. Navratra is one of the most celebrated festivals across the country. It is a nine day festival where nine avtars …

Read moreNavratri Day 1 Puja Ma Shailputri aarti – नवरात्र में पहले दिन करें माँ शैलपुत्री की पूजा

 13,318 total views,  1 views today

Shiv Chalisa

शिव चालीसा – Shiv Chalisa – shiv chalisa hindi

The easiest mantra to worship Lord Shiva is “Oom Nama Shivaay”. And for all the devotees of Lord Shiva we bring to you Shri Shiv Chalisa In Hinduism we believe in the trinity. It is believed that this trinity is the creator, operator and guardian of the world. Among the …

Read moreशिव चालीसा – Shiv Chalisa – shiv chalisa hindi

 12,304 total views,  4 views today

Sri Lakshmi Ji Ki Aarti

श्री लक्ष्मी माँ की आरती – lakshmi ji ki aarti

Lakshmi Ma or Laxmi Maata is one of the most popular goddess of hindu mythology and is goddess of wealth and prosperity. Ma Lakshmi ji ki aarti is recited to invoke ma Lakshmi to bring peace, health, wealth & prosperity into home. lakshmi ji ki aarti / om jai lakshmi mata …

Read moreश्री लक्ष्मी माँ की आरती – lakshmi ji ki aarti

 12,579 total views,  4 views today

Sri Lakshmi Suktam

Shri Lakshmi Suktam – श्री लक्ष्मीसूक्तम्‌ पाठ

Sri Lakshmi Suktam, is one of the earliest Sanskrit devotional hymn. Ma Lakshmi is revered as goddess of wealth, prosperity and fertility. This hymn is found in the Rig Vedic khilanis, which are appendices to the Rigveda. This Suktam is from Rigveda – यह श्री सूक्तं का वर्णन ऋग्वेद में …

Read moreShri Lakshmi Suktam – श्री लक्ष्मीसूक्तम्‌ पाठ

 13,201 total views,  4 views today

Shri Durga Kavach in Hindi

Shri Durga Kavach in Hindi ( Spoken Hindi)

Dear Friends, this Durga Kavach is in spoken hindi and will be helpful for people who find it difficult to recite it in Sanskrit or Hindi Chaupais. So below is Shri Durga Kavach in Hindi ( This is in spoken hindi , hope you will like it) Shri Durga Kavach …

Read moreShri Durga Kavach in Hindi ( Spoken Hindi)

 14,614 total views,  7 views today

Ma durga aarti

Shri Durga Aarti – Jai Ambe Gauri – मां दुर्गा जी की आरती

Shri Durga Aarti : For all the devotees for Ma Durga, friends find below Ma Durga Aarti – Jai Ambe Gauri.  

Ma Durga, the reincarnation of ‘Shakti’. Also known by many other names like – Ma Parvati, Ma Ambe. Every year 2 times during navaratri, Ma Durga’s 9 different forms are worshipped. For all the devotees of Ma Durga, please find below Shri Durga Aarti both in Hindi and English Script.

Jai Ambe Gauri – Maa Durga ji ki Aarti

Shri Durga Aarti - Jai Ambe Gauri - मां दुर्गा जी की आरती
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी ।
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री ॥टेक॥
Jai ambe gauri, mayya jai shyama gauri
Tumko nish-din dhyavat, hari brahma shivji
Jai ambe gauri
मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को ।
उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको ॥जय अम्बे गौरी॥
Maang sindoor virajat, tiko mrig-mad ko
Ujjwal se dou naina, chandra vadan niko ॥ Jai ambe gauri ॥
कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै।
रक्तपुष्प गल माला कंठन पर साजै
॥जय अम्बे गौरी॥
Kanak samaan kalewar, raktaambar raaje
Rakt pushp gal-mala, kanthan par saaje ॥ Jai ambe gauri ॥
केहरि वाहन राजत खड्ग खप्परधारी ।
सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुःखहारी ॥जय अम्बे गौरी॥
Kehri vahan rajat, kharag khapar dhaari
Sur nar muni jan sevat, tinke dukh haari ॥ Jai ambe gauri ॥
कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती ।
कोटिक चंद्र दिवाकर राजत समज्योति ॥जय अम्बे गौरी॥
Kanan kundal shobhit, naas-agre moti
Kotik chandra divakar, sum rajat jyoti ॥ Jai ambe gauri ॥
शुम्भ निशुम्भ बिडारे महिषासुर घाती ।
धूम्र विलोचन नैना निशिदिन मदमाती ॥जय अम्बे गौरी॥
Shumbh ni-shumbh vidare, mahisha sur ghati
Dhumra-vilochan naina, nish-din- mad mati ॥ Jai ambe gauri ॥
चण्ड मुंड संघारे शोणित बीज हरे।
मधु कैटभ दाऊ मारे, सुर भयहीन करे।
॥जय अम्बे गौरी॥
Chandh mundh sangh-haare, shonit beej hare
Madhu kaitabh dou maare, sur bhe heen kare ॥ Jai ambe gauri ॥
भ्राम्हणी रुद्राणी तुम कमला रानी। आगम निगम बखानी , तुम शिव पटरानी।
॥जय अम्बे गौरी॥
Brahmani rudrani, tum kamla rani
Aagam nigam bakhani, tum shiv patrani ॥ Jai ambe gauri ॥
चौंसठ योगिनि मंगल गावैं नृत्य करत भैरू।
बाजत ताल मृदंगा अरू बाजत डमरू ॥जय अम्बे गौरी॥
Chon-sath yogini gavat, nritya karat bhairon
Baajat taal mridanga, aur baajat damaroomaroo ॥ Jai ambe gauri ॥
तुम ही जग की माता , तुम ही हो भरता।
भक्तों की दुःख हारता , सुख संपत्ति करता
॥जय अम्बे गौरी॥
Tum hi jag ki maata, tum hi ho bharta
Bhakto ki dukh harata, sukh sampati karata ॥ Jai ambe gauri ॥
भुजा चार अति शोभित खड्ग खप्परधारी।
मनवांछित फल पावत सेवत नर नारी ॥जय अम्बे गौरी॥
Bhuja chaar ati shobit, var mudra dhaari
Man vaanchit phal pavat, sevat nar naari ॥ Jai ambe gauri ॥
कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती ।
श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति ॥जय अम्बे गौरी॥
Kanchan thaal virajat, agar kapoor baati
Shri maal-ketu me rajat, kotik ratan jyoti
॥ Jai ambe gauri ॥
श्री अम्बे माँ की आरती जो कोई नर गावै ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै ॥जय अम्बे गौरी॥
Shri ambe-ma-ki aaarti, jo koi nar gaave
Kahat shivanand swami, sukh sampati pave ॥ Jai ambe gauri ॥

Anuradha Paudwal Jai Ambe Gauri – on youtube


More from mytempletrips

You will also like below:

Ma Durga Kavach in Hindi – Durga Kavach hindi & sanskrit text

Shri Durga Chalisa in hindi – श्री दुर्गा चालीसा

 16,061 total views,  3 views today

Shri Durga Chalisa

Shri Durga Chalisa in hindi – श्री दुर्गा चालीसा

For all the devotees of Ma Durga, please find below Shri Durga Chalisa in hindi – श्री दुर्गा चालीसा . It said that those who worship and recite this chalisa daily are blessed by Ma Durga.

Shri Durga Chalisa - श्री दुर्गा चालीसा

Shri Durga Chalisa – श्री दुर्गा चालीसा

Shri Durga Chalisa in Hindi

नमो नमो दुर्गे सुख करनी।
नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥

निरंकार है ज्योति तुम्हारी।
तिहूं लोक फैली उजियारी॥

शशि ललाट मुख महाविशाला।
नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥

रूप मातु को अधिक सुहावे।
दरश करत जन अति सुख पावे॥

तुम संसार शक्ति लै कीना।
पालन हेतु अन्न धन दीना॥

अन्नपूर्णा तुम जग पाला।
तुम ही आदि सुन्दरी बाला॥
प्रलयकाल सब नाशन हारी।
तुम गौरी शिवशंकर प्यारी॥

शिव योगी तुम्हरे गुण गावें।
ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें॥

रूप सरस्वती को तुम धारा।
दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा॥

धरा रूप नरसिंह को अम्बा।
परगट भई फाड़कर खम्बा॥
रक्षा करि प्रह्लाद बचायो।
हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो॥

लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं।
श्री नारायण अंग समाहीं॥

क्षीरसिन्धु में करत विलासा।
दयासिन्धु दीजै मन आसा॥

हिंगलाज में तुम्हीं भवानी।
महिमा अमित न जात बखानी॥
मातंगी अरु धूमावति माता।
भुवनेश्वरी बगला सुख दाता॥

श्री भैरव तारा जग तारिणी।
छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी॥

केहरि वाहन सोह भवानी।
लांगुर वीर चलत अगवानी॥

कर में खप्पर खड्ग विराजै।
जाको देख काल डर भाजै॥

सोहै अस्त्र और त्रिशूला।
जाते उठत शत्रु हिय शूला॥

नगरकोट में तुम्हीं विराजत।
तिहुंलोक में डंका बाजत॥

शुंभ निशुंभ दानव तुम मारे।
रक्तबीज शंखन संहारे॥

महिषासुर नृप अति अभिमानी।
जेहि अघ भार मही अकुलानी॥

रूप कराल कालिका धारा।
सेन सहित तुम तिहि संहारा॥

परी गाढ़ संतन पर जब जब।
भई सहाय मातु तुम तब तब॥

अमरपुरी अरु बासव लोका।
तब महिमा सब रहें अशोका॥

ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी।
तुम्हें सदा पूजें नर-नारी॥
प्रेम भक्ति से जो यश गावें।
दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें॥

ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई।
जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई॥

जोगी सुर मुनि कहत पुकारी।
योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी॥

शंकर आचारज तप कीनो।
काम अरु क्रोध जीति सब लीनो॥
निशिदिन ध्यान धरो शंकर को।
काहु काल नहिं सुमिरो तुमको॥

शक्ति रूप का मरम न पायो।
शक्ति गई तब मन पछितायो॥

शरणागत हुई कीर्ति बखानी।
जय जय जय जगदम्ब भवानी॥

भई प्रसन्न आदि जगदम्बा।
दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा॥

मोको मातु कष्ट अति घेरो।
तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो॥

आशा तृष्णा निपट सतावें।
रिपू मुरख मौही डरपावे॥

शत्रु नाश कीजै महारानी।
सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी॥

करो कृपा हे मातु दयाला।
ऋद्धि-सिद्धि दै करहु निहाला।
जब लगि जिऊं दया फल पाऊं ।
तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊं ॥

दुर्गा चालीसा जो कोई गावै।
सब सुख भोग परमपद पावै॥

देवीदास शरण निज जानी।
करहु कृपा जगदम्ब भवानी॥

Shri Durga Chalisa in English

Namo namo Durge sukh karani,
Namo namo Ambe dukh harani.
Nirankar hai jyoti tumhari
Tihun lok pheli ujayari.

Shashi lalat mukh maha vishala,
Netra lal brikuti vikrala.

Roop matu ko adhika suhave,
Daras karat jan ati sukh pave.

Tum sansar shakti laya kina,
Palan hetu anna dhan dina.

Annapurna hui jag pala,
Tumhi adi sundari bala.

Pralaya kal sab nashan hari,
Tum Gauri Shiv Shankar pyari.

Shiv yogi tumhare gun gave,
Brahma Vishnu tumhe nit dhyaven.

Roop Saraswati ko tum dhara,
De subudhi rishi munin ubara

Dhara roop Narsimha ko Amba,
Pragat bhayin phar kar kamba.

Raksha kari Prahalad bachayo,
Hiranakush ko swarg pathayo.

Lakshmii roop dharo jag mahi,
Shree Narayan ang samahi

Sheer Sindhu me karat vilasa,
Daya Sindhu deejay man aasa

Hingalaj mein tumhi Bhavani,
Mahima amit na jaat bakhani

Matangi Dhoomavati Mata,
Bhuvneshwari Bagala Sukhdata

Shree Bairav Tara jog tarani,
Chin-na Bhala bhav dukh nivarani.

Kehari Vahan soh Bhavani,
Langur veer chalat agavani

Kar men khappar khadag viraje,
Jako dekh kal dar bhaje.

Sohe astra aur trishoola,
Jase uthata shatru hiya shoola


Nagarkot mein tumhi virajat,
Tihun lok mein danka bajat

Shumbhu Nishumbhu Danuja tum mare
Rakta-beeja shankhan samhare.


Mahishasur nripa ati abhimani,
Jehi agha bhar mahi akulani

Roop kaaral Kalika dhara,
Sen sahit tum tin tihi samhara

Pari garh santan par jab jab,
Bhayi sahaya Matu tum tab tab

Amarpuri aru basava loka,
Tava mahima sab rahen asoka

Jwala mein hai jyoti tumhari,
Tumhen sada pooje nar nari

Prem bhakti se jo yash gaye,
Dukh-daridra nikat nahin aave

Dhyave tumhen jo nar man laee,
Janam-maran tako chuti jaee.

Jogi sur-muni kahat pukari,
Jog na ho bin shakti tumhari

Shankar Aacharaj tap keenhon,
Kam, krodh jeet sab leenhon

Nisidhin dhyan dharo Shanker ko,
Kahu kal nahin sumiron tum ko

Shakti roop ko maram na payo,
Shakti gayi tab man pachitayo

Sharnagat hui keerti bakhani,
Jai jai jai Jagdamb Bhavani

Bhayi prasanna Aadi Jagdamba,
Dayi shakti nahin keen vilamba

Mokun Matu kashta ati ghero,
Tum bin kaun hare dukh mero

Asha trishna nipat sataven,
Moh madadik sab binsaven

Shatru nash keeje Maharani,
Sumiron ikchit tumhi Bhavani

Karo kripa hey Matu dayala
Riddhi-Siddhi de karahu nihala

Jab lagi jiyoon daya phal paoon,
Tumro yash mein sada sunaoon,


Durga chalisa jo gaye,
Sab sukh bhog parampad pave

Devidas sharan nij jani,
Karahu kripa Jagdamb Bhavani


शरणागत रक्षा करें , भक्त रहे निःशंक , मै आया तेरी शरण में माता लीजे अंक

|| जय दुर्गा मइया ||


Friends, Shri Durga Chalisa , श्री दुर्गा चालीसा is a very powerful way to start your day. Do recite Shri Durga Chalisa daily and seek Ma Durgas blessings.

Jai Mata ki!


You will also like: – Ma Durga Kavach

 7,365 total views,  7 views today

ma durga kavach

श्री दुर्गा कवच – Ma Durga Kavach – Durga Kavach hindi (Chaupai) & sanskrit text

Ma Durga Kavach in Hindi – जय माता की दोस्तों। माँ दुर्गा के भक्तों को माँ दुर्गा के कवच का महत्व बताने की जरूरत नहीं है। यह कवच से माँ दुर्गा की स्तुति करने से मन के सरे डर खत्म हो जाते है। यह कवच आपके और आपके परिवार को सुरक्षा प्रदान करना है। अगर आप Durga Kavach hindi text खोज रहे हैं तो हम नीचे Ma Durga Kavach का हिंदी में पाठ दे रहे हैं जिसे आप डाउनलोड भी कर सकते हैं।


माँ दुर्गा कवच – Ma Durga Kavach ( In Hindi – )

॥अथ श्री देव्याः कवचम्॥

॥जय माता की ॥

ऋषि मार्कंड़य ने पूछा जभी !
दया करके ब्रह्माजी बोले तभी !!
के जो गुप्त मंत्र है संसार में !
हैं सब शक्तियां जिसके अधिकार में !!
हर इक का कर सकता जो उपकार है !
जिसे जपने से बेडा ही पार है !!
पवित्र कवच दुर्गा बलशाली का !
जो हर काम पूरे करे सवाल का !!
सुनो मार्कंड़य मैं समझाता हूँ !
मैं नवदुर्गा के नाम बतलाता हूँ !!
कवच की मैं सुन्दर चोपाई बना !
जो अत्यंत हैं गुप्त देयुं बता !!
नव दुर्गा का कवच यह, पढे जो मन चित लाये !
उस पे किसी प्रकार का, कभी कष्ट न आये !!
कहो जय जय जय महारानी की !
जय दुर्गा अष्ट भवानी की !!
पहली शैलपुत्री कहलावे !
दूसरी ब्रह्मचरिणी मन भावे !!
तीसरी चंद्रघंटा शुभ नाम !
चौथी कुश्मांड़ा सुखधाम !!
पांचवी देवी अस्कंद माता !
छटी कात्यायनी विख्याता !!
सातवी कालरात्रि महामाया !
आठवी महागौरी जग जाया !!
नौवी सिद्धिरात्रि जग जाने !
नव दुर्गा के नाम बखाने !!
महासंकट में बन में रण में !
रुप होई उपजे निज तन में !!
महाविपत्ति में व्योवहार में !
मान चाहे जो राज दरबार में !!
शक्ति कवच को सुने सुनाये !
मन कामना सिद्धी नर पाए !!
चामुंडा है प्रेत पर, वैष्णवी गरुड़ सवार !
बैल चढी महेश्वरी, हाथ लिए हथियार !!
कहो जय जय जय महारानी की !
जय दुर्गा अष्ट भवानी की !!
हंस सवारी वारही की !
मोर चढी दुर्गा कुमारी !!
लक्ष्मी देवी कमल असीना !
ब्रह्मी हंस चढी ले वीणा !!
ईश्वरी सदा बैल सवारी !
भक्तन की करती रखवारी !!
शंख चक्र शक्ति त्रिशुला !
हल मूसल कर कमल के फ़ूला !!
दैत्य नाश करने के कारन !
रुप अनेक किन्हें धारण !!
बार बार मैं सीस नवाऊं !
जगदम्बे के गुण को गाऊँ !!
कष्ट निवारण बलशाली माँ !
दुष्ट संहारण महाकाली माँ !!
कोटी कोटी माता प्रणाम !
पूरण की जो मेरे काम !!
दया करो बलशालिनी, दास के कष्ट मिटाओ !
चमन की रक्षा को सदा, सिंह चढी माँ आओ !!
कहो जय जय जय महारानी की !
जय दुर्गा अष्ट भवानी की !!
अग्नि से अग्नि देवता !
पूरब दिशा में येंदरी !!
दक्षिण में वाराही मेरी !
नैविधी में खडग धारिणी !!
वायु से माँ मृग वाहिनी !
पश्चिम में देवी वारुणी !!
उत्तर में माँ कौमारी जी!
ईशान में शूल धारिणी !!
ब्रहामानी माता अर्श पर !
माँ वैष्णवी इस फर्श पर !!
चामुंडा दसों दिशाओं में, हर कष्ट तुम मेरा हरो !
संसार में माता मेरी, रक्षा करो रक्षा करो !!
सन्मुख मेरे देवी जया !
पाछे हो माता विजैया !!
अजीता खड़ी बाएं मेरे !
अपराजिता दायें मेरे !!
नवज्योतिनी माँ शिवांगी !
माँ उमा देवी सिर की ही !!
मालाधारी ललाट की, और भ्रुकुटी कि यशर्वथिनी !
भ्रुकुटी के मध्य त्रेनेत्रायम् घंटा दोनो नासिका !!
काली कपोलों की कर्ण, मूलों की माता शंकरी !
नासिका में अंश अपना, माँ सुगंधा तुम धरो !!
संसार में माता मेरी, रक्षा करो रक्षा करो !!
ऊपर वाणी के होठों की !
माँ चन्द्रकी अमृत करी !!
जीभा की माता सरस्वती !
दांतों की कुमारी सती !!
इस कठ की माँ चंदिका !
और चित्रघंटा घंटी की !!
कामाक्षी माँ ढ़ोढ़ी की !
माँ मंगला इस बनी की !!
ग्रीवा की भद्रकाली माँ !
रक्षा करे बलशाली माँ !!
दोनो भुजाओं की मेरे, रक्षा करे धनु धारनी !
दो हाथों के सब अंगों की, रक्षा करे जग तारनी !!
शुलेश्वरी, कुलेश्वरी, महादेवी शोक विनाशानी !
जंघा स्तनों और कन्धों की, रक्षा करे जग वासिनी !!
हृदय उदार और नाभि की, कटी भाग के सब अंग की !
गुम्हेश्वरी माँ पूतना, जग जननी श्यामा रंग की !!
घुटनों जन्घाओं की करे, रक्षा वो विंध्यवासिनी !
टकखनों व पावों की करे, रक्षा वो शिव की दासनी !!
रक्त मांस और हड्डियों से, जो बना शरीर !
आतों और पित वात में, भरा अग्न और नीर !!
बल बुद्धि अंहकार और, प्राण ओ पाप समान !
सत रज तम के गुणों में, फँसी है यह जान !!
धार अनेकों रुप ही, रक्षा करियो आन !
तेरी कृपा से ही माँ, चमन का है कल्याण !!
आयु यश और कीर्ति धन, सम्पति परिवार !
ब्रह्मणी और लक्ष्मी, पार्वती जग तार !!
विद्या दे माँ सरस्वती, सब सुखों की मूल !
दुष्टों से रक्षा करो, हाथ लिए त्रिशूल !!
भैरवी मेरी भार्या की, रक्षा करो हमेश !
मान राज दरबार में, देवें सदा नरेश !!
यात्रा में दुःख कोई न, मेरे सिर पर आये !
कवच तुम्हारा हर जगह, मेरी करे सहाए !!
है जग जननी कर दया, इतना दो वरदान !
लिखा तुम्हारा कवच यह, पढे जो निश्चय मान !!
मन वांछित फल पाए वो, मंगल मोड़ बसाए !
कवच तुम्हारा पढ़ते ही, नवनिधि घर मे आये !!
ब्रह्माजी बोले सुनो मार्कंड़य !
यह दुर्गा कवच मैंने तुमको सुनाया !!
रहा आज तक था गुप्त भेद सारा !
जगत की भलाई को मैंने बताया !!
सभी शक्तियां जग की करके एकत्रित !
है मिट्टी की देह को इसे जो पहनाया !!
चमन जिसने श्रद्धा से इसको पढ़ा जो !
सुना तो भी मुह माँगा वरदान पाया !!
जो संसार में अपने मंगल को चाहे !
तो हरदम कवच यही गाता चला जा !!
बियाबान जंगल दिशाओं दशों में !
तू शक्ति की जय जय मनाता चला जा !!
तू जल में तू थल में तू अग्नि पवन में !
कवच पहन कर मुस्कुराता चला जा !!
निडर हो विचर मन जहाँ तेरा चाहे !
चमन पाव आगे बढ़ता चला जा !!
तेरा मान धन धान्य इससे बढेगा !
तू श्रद्धा से दुर्गा कवच को जो गाए !!
यही मंत्र यन्त्र यही तंत्र तेरा !
यही तेरे सिर से हर संकट हटायें !!
यही भूत और प्रेत के भय का नाशक !
यही कवच श्रद्धा व भक्ति बढ़ाये !!
इसे निसदिन श्रद्धा से पढ़ कर !
जो चाहे तो मुह माँगा वरदान पाए !!
इस स्तुति के पाठ से पहले कवच पढे !
कृपा से आधी भवानी की, बल और बुद्धि बढे !!
श्रद्धा से जपता रहे, जगदम्बे का नाम !
सुख भोगे संसार में, अंत मुक्ति सुखधाम !!
कृपा करो मातेश्वरी, बालक चमन नादाँ !
तेरे दर पर आ गिरा, करो मैया कल्याण !!


माँ दुर्गा कवच – Ma Durga Kavach ( In Sanskrit)

॥अथ श्री देव्याः कवचम्॥

ॐ अस्य श्रीचण्डीकवचस्य ब्रह्मा ऋषिः, अनुष्टुप् छन्दः,
चामुण्डा देवता, अङ्गन्यासोक्तमातरो बीजम्, दिग्बन्धदेवतास्तत्त्वम्,
श्रीजगदम्बाप्रीत्यर्थे सप्तशतीपाठाङ्गत्वेन जपे विनियोगः।
ॐ नमश्चण्डिकायै॥

मार्कण्डेय उवाच ॐ यद्गुह्यं परमं लोके सर्वरक्षाकरं नृणाम्। यन्न कस्यचिदाख्यातं तन्मे ब्रूहि पितामह॥१॥
ब्रह्मोवाच अस्ति गुह्यतमं विप्र सर्वभूतोपकारकम्। देव्यास्तु कवचं पुण्यं तच्छृणुष्व महामुने॥२॥
प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी। तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम् ॥३॥
पञ्चमं स्कन्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च। सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम्॥४॥
नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः। उक्तान्येतानि नामानि ब्रह्मणैव महात्मना॥५॥
अग्निना दह्यमानस्तु शत्रुमध्ये गतो रणे। विषमे दुर्गमे चैव भयार्ताः शरणं गताः॥६॥
न तेषां जायते किंचिदशुभं रणसंकटे। नापदं तस्य पश्यामि शोकदुःखभयं न हि॥७॥
यैस्तु भक्त्या स्मृता नूनं तेषां वृद्धिः प्रजायते। ये त्वां स्मरन्ति देवेशि रक्षसे तान्न संशयः॥८॥
प्रेतसंस्था तु चामुण्डा वाराही महिषासना। ऐन्द्री गजसमारुढा वैष्णवी गरुडासना॥९॥
माहेश्वरी वृषारुढा कौमारी शिखिवाहना। लक्ष्मीः पद्मासना देवी पद्महस्ता हरिप्रिया॥१०॥
श्वेतरुपधरा देवी ईश्वरी वृषवाहना। ब्राह्मी हंससमारुढा सर्वाभरणभूषिता॥११॥
इत्येता मातरः सर्वाः सर्वयोगसमन्विताः। नानाभरणशोभाढ्या नानारत्नोपशोभिताः॥१२॥
दृश्यन्ते रथमारुढा देव्यः क्रोधसमाकुलाः। शङ्खं चक्रं गदां शक्तिं हलं च मुसलायुधम्॥१३॥
खेटकं तोमरं चैव परशुं पाशमेव च। कुन्तायुधं त्रिशूलं च शार्ङ्गमायुधमुत्तमम्॥१४॥
दैत्यानां देहनाशाय भक्तानामभयाय च। धारयन्त्यायुधानीत्थं देवानां च हिताय वै॥१५॥
नमस्तेऽस्तु महारौद्रे महाघोरपराक्रमे। महाबले महोत्साहे महाभयविनाशिनि॥१६॥
त्राहि मां देवि दुष्प्रेक्ष्ये शत्रूणां भयवर्धिनि। प्राच्यां रक्षतु मामैन्द्री आग्नेय्यामग्निदेवता॥१७॥
दक्षिणेऽवतु वाराही नैर्ऋत्यां खड्गधारिणी। प्रतीच्यां वारुणी रक्षेद् वायव्यां मृगवाहिनी॥१८॥
उदीच्यां पातु कौमारी ऐशान्यां शूलधारिणी। ऊर्ध्वं ब्रह्माणि मे रक्षेदधस्ताद् वैष्णवी तथा॥१९॥
एवं दश दिशो रक्षेच्चामुण्डा शववाहना। जया मे चाग्रतः पातु विजया पातु पृष्ठतः॥२०॥
अजिता वामपार्श्वे तु दक्षिणे चापराजिता। शिखामुद्योतिनि रक्षेदुमा मूर्ध्नि व्यवस्थिता॥२१॥
मालाधरी ललाटे च भ्रुवौ रक्षेद् यशस्विनी। त्रिनेत्रा च भ्रुवोर्मध्ये यमघण्टा च नासिके॥२२॥
शङ्खिनी चक्षुषोर्मध्ये श्रोत्रयोर्द्वारवासिनी। कपोलौ कालिका रक्षेत्कर्णमूले तु शांकरी॥२३॥
नासिकायां सुगन्धा च उत्तरोष्ठे च चर्चिका। अधरे चामृतकला जिह्वायां च सरस्वती॥२४॥
दन्तान् रक्षतु कौमारी कण्ठदेशे तु चण्डिका। घण्टिकां चित्रघण्टा च महामाया च तालुके ॥२५॥
कामाक्षी चिबुकं रक्षेद् वाचं मे सर्वमङ्गला। ग्रीवायां भद्रकाली च पृष्ठवंशे धनुर्धरी॥२६॥
नीलग्रीवा बहिःकण्ठे नलिकां नलकूबरी। स्कन्धयोः खङ्गिनी रक्षेद् बाहू मे वज्रधारिणी॥२७॥
हस्तयोर्दण्डिनी रक्षेदम्बिका चाङ्गुलीषु च। नखाञ्छूलेश्वरी रक्षेत्कुक्षौ रक्षेत्कुलेश्वरी॥२८॥
स्तनौ रक्षेन्महादेवी मनः शोकविनाशिनी। हृदये ललिता देवी उदरे शूलधारिणी॥२९॥
नाभौ च कामिनी रक्षेद् गुह्यं गुह्येश्वरी तथा। पूतना कामिका मेढ्रं गुदे महिषवाहिनी ॥३०॥
कट्यां भगवती रक्षेज्जानुनी विन्ध्यवासिनी। जङ्घे महाबला रक्षेत्सर्वकामप्रदायिनी ॥३१॥
गुल्फयोर्नारसिंही च पादपृष्ठे तु तैजसी। पादाङ्गुलीषु श्री रक्षेत्पादाधस्तलवासिनी॥३२॥
नखान् दंष्ट्राकराली च केशांश्चैवोर्ध्वकेशिनी। रोमकूपेषु कौबेरी त्वचं वागीश्वरी तथा॥३३॥
रक्तमज्जावसामांसान्यस्थिमेदांसि पार्वती। अन्त्राणि कालरात्रिश्च पित्तं च मुकुटेश्वरी॥३४॥
पद्मावती पद्मकोशे कफे चूडामणिस्तथा। ज्वालामुखी नखज्वालामभेद्या सर्वसंधिषु॥३५॥
शुक्रं ब्रह्माणि मे रक्षेच्छायां छत्रेश्वरी तथा। अहंकारं मनो बुद्धिं रक्षेन्मे धर्मधारिणी॥३६॥
प्राणापानौ तथा व्यानमुदानं च समानकम्। वज्रहस्ता च मे रक्षेत्प्राणं कल्याणशोभना॥३७॥
रसे रुपे च गन्धे च शब्दे स्पर्शे च योगिनी। सत्त्वं रजस्तमश्चैव रक्षेन्नारायणी सदा॥३८॥
आयू रक्षतु वाराही धर्मं रक्षतु वैष्णवी। यशः कीर्तिं च लक्ष्मीं च धनं विद्यां च चक्रिणी॥३९॥
गोत्रमिन्द्राणि मे रक्षेत्पशून्मे रक्ष चण्डिके। पुत्रान् रक्षेन्महालक्ष्मीर्भार्यां रक्षतु भैरवी॥४०॥
पन्थानं सुपथा रक्षेन्मार्गं क्षेमकरी तथा। राजद्वारे महालक्ष्मीर्विजया सर्वतः स्थिता॥४१॥
रक्षाहीनं तु यत्स्थानं वर्जितं कवचेन तु। तत्सर्वं रक्ष मे देवि जयन्ती पापनाशिनी॥४२॥
पदमेकं न गच्छेत्तु यदीच्छेच्छुभमात्मनः। कवचेनावृतो नित्यं यत्र यत्रैव गच्छति॥४३॥
तत्र तत्रार्थलाभश्च विजयः सार्वकामिकः। यं यं चिन्तयते कामं तं तं प्राप्नोति निश्चितम्। परमैश्वर्यमतुलं प्राप्स्यते भूतले पुमान्॥४४॥
निर्भयो जायते मर्त्यः संग्रामेष्वपराजितः। त्रैलोक्ये तु भवेत्पूज्यः कवचेनावृतः पुमान्॥४५॥
इदं तु देव्याः कवचं देवानामपि दुर्लभम् । यः पठेत्प्रयतो नित्यं त्रिसन्ध्यं श्रद्धयान्वितः॥४६॥
दैवी कला भवेत्तस्य त्रैलोक्येष्वपराजितः। जीवेद् वर्षशतं साग्रमपमृत्युविवर्जितः। ४७॥
नश्यन्ति व्याधयः सर्वे लूताविस्फोटकादयः। स्थावरं जङ्गमं चैव कृत्रिमं चापि यद्विषम्॥४८॥
अभिचाराणि सर्वाणि मन्त्रयन्त्राणि भूतले। भूचराः खेचराश्चैव जलजाश्चोपदेशिकाः॥४९॥
सहजा कुलजा माला डाकिनी शाकिनी तथा। अन्तरिक्षचरा घोरा डाकिन्यश्च महाबलाः॥५०॥
ग्रहभूतपिशाचाश्च यक्षगन्धर्वराक्षसाः। ब्रह्मराक्षसवेतालाः कूष्माण्डा भैरवादयः ॥५१॥
नश्यन्ति दर्शनात्तस्य कवचे हृदि संस्थिते। मानोन्नतिर्भवेद् राज्ञस्तेजोवृद्धिकरं परम्॥५२॥
यशसा वर्धते सोऽपि कीर्तिमण्डितभूतले। जपेत्सप्तशतीं चण्डीं कृत्वा तु कवचं पुरा॥५३॥
यावद्भूमण्डलं धत्ते सशैलवनकाननम्। तावत्तिष्ठति मेदिन्यां संततिः पुत्रपौत्रिकी॥५४॥
देहान्ते परमं स्थानं यत्सुरैरपि दुर्लभम्। प्राप्नोति पुरुषो नित्यं महामायाप्रसादतः॥५५॥
लभते परमं रुपं शिवेन सह मोदते॥ॐ॥५६॥


माँ दुर्गा कवच – Ma Durga Kavach on Youtube

ये एक बहुत ही अच्छा वीडियो है YOUTUBE पे। आप इस वीडियो को जरूर सुने और माँ दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त करें। जय माता की !

Devi Kavacham 


सो दोस्तों – यह माँ दुर्गा का कवच जरूर पढ़िए और माँ का आशीर्वाद प्राप्त करिये। माँ दुर्गा का आशीर्वाद आपके जीवन में हमेशा बना रहे।

जय माता की !

Friends do read this Ma Durga Kavach. Jai Mata Ki !

You may also like: Mata Vaishnov Devi Temple of Jammu

 7,646 total views,  8 views today

hanuman ji ki aarti

Hanuman Chalisa Meaning ( Hindi and English )

Lord Hanuman is one of our favorite god. We believe that Lord Hanuman has lived on earth for ages and continues to live on earth to protect us from all difficulties. Hanuman chalisa is a set of 40 chaupais written by Shri Tulsidas dedicated to Lord Hanuman and is one of the most powerful prayers. Most of us know these chaupais by heart, but many of is do not know it’s meaning. This article is about Hanuman Chalisa meaning in Hindi and English.

दुनिया रचने वाले को भगवान कहते हैं और संकट हरने वाले को हनुमान कहते हैं। जय श्री राम।

 Hanuman Chalisa meaning

Hanuman Chalisa Meaning

Hanuman Chalisa Chaupai (In Hindi)Hanuman Chalisa Meaning in HindiHanuman Chalisa Meaning in English
श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुरु सुधारि।
बरनऊं रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।
श्री गुरु महाराज के चरण कमलों की धूलि से अपने मन रूपी दर्पण को पवित्र करके श्री रघुवीर के निर्मल यश का वर्णन करता हूं, जो चारों फल धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को देने वाला है।With the Dust of the Lotus Feet of Sri Gurudeva, I Clean the Mirror of my Mind.
I Narrate the Sacred Glory of Sri Raghubar (Sri Rama Chandra), who Bestows the Four Fruits of Life (Dharma, Artha, Kama and Moksha).
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरो पवन-कुमार।
बल बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकार।
हे पवन कुमार! मैं आपको सुमिरन करता हूं। आप तो जानते ही हैं कि मेरा शरीर और बुद्धि निर्बल है। मुझे शारीरिक बल, सद्‍बुद्धि एवं ज्ञान दीजिए और मेरे दुखों व दोषों का नाश कार दीजिए।Considering Myself as Ignorant, I Meditate on You, O Pavan Kumar (Hanuman).
Bestow on me Strength, Wisdom and Knowledge, and Remove my Afflictions and Blemishes.
जय हनुमान ज्ञान गुण सागर, जय कपीस तिहुं लोक उजागर॥1॥श्री हनुमान जी! आपकी जय हो। आपका ज्ञान और गुण अथाह है। हे कपीश्वर! आपकी जय हो! तीनों लोकों, स्वर्ग लोक, भूलोक और पाताल लोक में आपकी कीर्ति है।Victory to You, O Hanuman, Who is the Ocean of Wisdom and Virtue,
Victory to the Lord of the Monkeys, Who is the Enlightener of the Three Worlds.
राम दूत अतुलित बलधामा, अंजनी पुत्र पवन सुत नामा॥हे पवनसुत अंजनी नंदन! आपके समान दूसरा बलवान नहीं है।You are the Messenger of Sri Rama possessing Immeasurable Strength,
You are Known as Anjani-Putra (son of Anjani) and Pavana-Suta (son of Pavana, the wind-god).
महावीर विक्रम बजरंगी, कुमति निवार सुमति के संगी॥3॥हे महावीर बजरंग बली!आप विशेष पराक्रम वाले है। आप खराब बुद्धि को दूर करते है, और अच्छी बुद्धि वालों के साथी, सहायक है।You are a Great Hero, extremely Valiant, and body as strong as Thunderbolt,
You are the Dispeller of Evil Thoughts and Companion of Good Sense and Wisdom.
कंचन बरन बिराज सुबेसा, कानन कुण्डल कुंचित केसा॥4॥आप सुनहले रंग, सुन्दर वस्त्रों, कानों में कुण्डल और घुंघराले बालों से सुशोभित हैं।You possess a Golden Hue, and you are Neatly Dressed,
You wear Ear-Rings and have beautiful Curly Hair.
हाथबज्र और ध्वजा विराजे, कांधे मूंज जनेऊ साजै॥5॥ आपके हाथ में बज्र और ध्वजा है और कन्धे पर मूंज के जनेऊ की शोभा है।You hold the Thunderbolt and the Flag in your Hands.
You wear the Sacred Thread across your Shoulder.
शंकर सुवन केसरी नंदन, तेज प्रताप महा जग वंदन॥6॥ शंकर के अवतार! हे केसरी नंदन आपके पराक्रम और महान यश की संसार भर में वन्दना होती है।You are the Incarnation of Lord Shiva and Son of Kesari,
You are Adored by the whole World on account of your Great Strength and Courage.
विद्यावान गुणी अति चातुर, राम काज करिबे को आतुर॥7॥आप प्रकान्ड विद्या निधान है, गुणवान और अत्यन्त कार्य कुशल होकर श्री राम के काज करने के लिए आतुर रहते है।You are Learned, Virtuous and Extremely Intelligent,
You are always Eager to do the Works of Sri Rama.
प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया, राम लखन सीता मन बसिया॥8॥आप श्री राम चरित सुनने में आनन्द रस लेते है। श्री राम, सीता और लखन आपके हृदय में बसे रहते है।You Delight in Listening to the Glories of Sri Rama,
You have Sri Rama, Sri Lakshmana and Devi Sita Dwelling in your Heart.
सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा, बिकट रूप धरि लंक जरावा॥9॥





आपने अपना बहुत छोटा रूप धारण करके सीता जी को दिखलाया और भयंकर रूप करके लंका को जलाया।You Appeared before Devi Sita Assuming a Diminutive Form (in Lanka),
You Assumed an Awesome Form and Burnt Lanka.
भीम रूप धरि असुर संहारे, रामचन्द्र के काज संवारे॥10॥आपने विकराल रूप धारण करके राक्षसों को मारा और श्री रामचन्द्र जी के उद्‍देश्यों को सफल कराया।You Assumed a Gigantic Form and Destroyed the Demons,
Thereby Accomplishing the Task of Sri Rama.
लाय सजीवन लखन जियाये, श्री रघुवीर हरषि उर लाये॥11॥आपने संजीवनी बूटी लाकर लक्ष्मण जी को जिलाया जिससे श्री रघुवीर ने हर्षित होकर आपको हृदय से लगा लिया।You Brought the Sanjivana herb and Revived Sri Lakshmana.
Because of this Sri Rama Embraced You overflowing with Joy.
रघुपति कीन्हीं बहुत बड़ाई, तुम मम प्रिय भरत सम भाई॥12॥श्री रामचन्द्र ने आपकी बहुत प्रशंसा की और कहा कि तुम मेरे भरत जैसे प्यारे भाई हो।Sri Rama Praised You Greatly,
And said: “You are as dear to me as my brother Bharata”.
सहस बदन तुम्हरो जस गावैं। अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं॥13॥श्री राम ने आपको यह कहकर हृदय से लगा लिया की तुम्हारा यश हजार मुख से सराहनीय है।The Thousand Headed Seshnag Sings Your Glory”,
Said Sri Rama to You taking you in his Embrace.
सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा, नारद, सारद सहित अहीसा॥14॥श्री सनक, श्री सनातन, श्री सनन्दन, श्री सनत्कुमार आदि मुनि ब्रह्मा आदि देवता नारद जी, सरस्वती जी, शेषनाग जी सब आपका गुण गान करते है।Sanaka and other Sages, Lord Brahma and other Gods,
Narada, Devi Saraswati and Seshnag
 …
जम कुबेर दिगपाल जहां ते, कबि कोबिद कहि सके कहां ते॥15॥यमराज, कुबेर आदि सब दिशाओं के रक्षक, कवि विद्वान, पंडित या कोई भी आपके यश का पूर्णतः वर्णन नहीं कर सकते।Yama (god of death), Kubera (god of wealth), Digpalas (the guardian deities),
Poets and Scholars have not been able to Describe Your Glories in full
तुम उपकार सुग्रीवहि कीन्हा, राम मिलाय राजपद दीन्हा॥16॥आपने सुग्रीव जी को श्रीराम से मिलाकर उपकार किया, जिसके कारण वे राजा बने।You Rendered a great Help to Sugriva.
You Introduced him to Sri Rama and thereby Gave back his Kingdom.
तुम्हरो मंत्र विभीषण माना, लंकेस्वर भए सब जग जाना॥17॥आपके उपदेश का विभिषण जी ने पालन किया जिससे वे लंका के राजा बने, इसको सब संसार जानता है।Vibhisana Followed your Advice,
And the Whole World Knows that he became the King of Lanka
जुग सहस्त्र जोजन पर भानू, लील्यो ताहि मधुर फल जानू॥18॥जो सूर्य इतने योजन दूरी पर है कि उस पर पहुंचने के लिए हजार युग लगे। दो हजार योजन की दूरी पर स्थित सूर्य को आपने एक मीठा फल समझकर निगल लिया।The Sun which was at a distance of Sixteen Thousand Miles,
You Swallowed It (the Sun) thinking it to be a Sweet Fruit.
प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहि, जलधि लांघि गये अचरज नाहीं॥19॥आपने श्री रामचन्द्र जी की अंगूठी मुंह में रखकर समुद्र को लांघ लिया, इसमें कोई आश्चर्य नहीं है।Carrying Lord Sri Rama’s Ring in your Mouth,
You Crossed the Ocean, no Wonder in that.
दुर्गम काज जगत के जेते, सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते॥20॥ संसार में जितने भी कठिन से कठिन काम हो, वो आपकी कृपा से सहज हो जाते है।All the Difficult Tasks in this World,
Are Rendered Easy by your Grace.
राम दुआरे तुम रखवारे, होत न आज्ञा बिनु पैसा रे॥21॥श्री रामचन्द्र जी के द्वार के आप रखवाले है, जिसमें आपकी आज्ञा बिना किसी को प्रवेश नहीं मिलता अर्थात् आपकी प्रसन्नता के बिना राम कृपा दुर्लभ है।You are the Gate-Keeper of Sri Rama’s Kingdom.
No one can Enter without Your Permission.
सब सुख लहै तुम्हारी सरना, तुम रक्षक काहू को डरना ॥22॥जो भी आपकी शरण में आते है, उस सभी को आनन्द प्राप्त होता है, और जब आप रक्षक है, तो फिर किसी का डर नहीं रहता।Those who take Refuge in You enjoy all Happiness.
If You are the Protector, what is there to Fear?
आपन तेज सम्हारो आपै, तीनों लोक हांक तें कांपै॥23॥आपके सिवाय आपके वेग को कोई नहीं रोक सकता, आपकी गर्जना से तीनों लोक कांप जाते है।You alone can Control Your Great Energy.
When you Roar, the Three Worlds Tremble.
भूत पिशाच निकट नहिं आवै, महावीर जब नाम सुनावै॥24॥जहां महावीर हनुमान जी का नाम सुनाया जाता है, वहां भूत, पिशाच पास भी नहीं फटक सकते।Ghosts and Evil Spirits will Not Come Near,
When one Utters the Name of Mahavir (Hanuman).
नासै रोग हरै सब पीरा, जपत निरंतर हनुमत बीरा ॥25॥वीर हनुमान जी! आपका निरंतर जप करने से सब रोग चले जाते है और सब पीड़ा मिट जाती है।You Destroy Diseases and Remove all Pains,
When one Utters your Name Continuously.
संकट से हनुमान छुडावै ।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै ॥26
हे हनुमान जी! विचार करने में, कर्म करने में और बोलने में, जिनका ध्यान आपमें रहता है, उनको सब
संकटों से आप छुड़ाते है
Hanuman Frees one from Difficulties,
When one Meditates on Him with Mind, Deed and Words.
सब पर राम तपस्वी राजा, तिनके काज सकल तुम साजा॥27॥तपस्वी राजा श्री रामचन्द्र जी सबसे श्रेष्ठ है, उनके सब कार्यों को आपने सहज में कर दिया।Sri Rama is the King of the Tapaswis (devotees engaged in penances).
And You (Hanuman) Fulfill all Works of Sri Rama (as a caretaker)
और मनोरथ जो कोइ लावै, सोई अमित जीवन फल पावै॥28॥जिस पर आपकी कृपा हो, वह कोई भी अभिलाषा करें तो उसे ऐसा फल मिलता है जिसकी जीवन में कोई सीमा नहीं होती।Devotees who have any Other Desires,
Will ultimately get the Highest Fruit of Life.
चारों जुग परताप तुम्हारा, है परसिद्ध जगत उजियारा॥29॥चारो युगों सतयुग, त्रेता, द्वापर तथा कलियुग में आपका यश फैला हुआ है, जगत में आपकी कीर्ति सर्वत्र प्रकाशमान है।Your Glory prevails in all the Four Ages.
And your Fame Radiates throughout the World.
साधु सन्त के तुम रखवारे, असुर निकंदन राम दुलारे॥30॥हे श्री राम के दुलारे! आप सज्जनों की रक्षा करते है और दुष्टों का नाश करते है।You are the Saviour of the Saints and Sages.
You Destroy the Demons, O Beloved of Sri Rama.
अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता, अस बर दीन जानकी माता॥31॥आपको माता श्री जानकी से ऐसा वरदान मिला हुआ है, जिससे आप किसी को भी आठों सिद्धियां और नौ निधियां दे सकते
है।
1.) अणिमा- जिससे साधक किसी को दिखाई नहीं पड़ता और कठिन से कठिन पदार्थ में प्रवेश कर जाता है।
2.) महिमा- जिसमें योगी अपने को बहुत बड़ा बना देता है।
3.) गरिमा- जिससे साधक अपने को चाहे जितना भारी बना लेता है।
4.) लघिमा- जिससे जितना चाहे उतना हल्का बन जाता है।
5.) प्राप्ति- जिससे इच्छित पदार्थ की प्राप्ति होती है।
6.) प्राकाम्य- जिससे इच्छा करने पर वह पृथ्वी में समा सकता है, आकाश में उड़ सकता है।
7.) ईशित्व- जिससे सब पर शासन का सामर्थ्य हो जाता है।
8.) वशित्व- जिससे दूसरों को वश में किया जाता है।
You can Give the Eight Siddhis (supernatural powers) and Nine Nidhis (types of devotions).
Mother Janaki (Devi Sita) gave this Boon to you
राम रसायन तुम्हरे पासा, सदा रहो रघुपति के दासा॥32॥आप निरंतर श्री रघुनाथ जी की शरण में रहते है, जिससे आपके पास बुढ़ापा और असाध्य रोगों के नाश के लिए राम नाम औषधि है।You hold the Essence of Devotion to Sri Rama.
You Always Remain as the Servant of Raghupati (Sri Rama).
तुम्हरे भजन राम को पावै, जनम जनम के दुख बिसरावै॥33॥आपका भजन करने से श्री राम जी प्राप्त होते है और जन्म जन्मांतर के दुख दूर होते है।Through Devotion to You, one gets Sri Rama,
Thereby getting Free of the Sorrows of Life after Life.
अन्त काल रघुबर पुर जाई, जहां जन्म हरि भक्त कहाई॥34॥अंत समय श्री रघुनाथ जी के धाम को जाते है और यदि फिर भी जन्म लेंगे तो भक्ति करेंगे और श्री राम भक्त कहलाएंगे।At the End one Goes to the Abode of Raghupati (Sri Rama).
Where one is Known as the Devotee of Hari.
और देवता चित न धरई, हनुमत सेई सर्व सुख करई॥35॥हे हनुमान जी! आपकी सेवा करने से सब प्रकार के सुख मिलते है, फिर अन्य किसी देवता की आवश्यकता नहीं रहती।Even without Worshipping any Other Deities,
One Gets All Happiness who Worships Sri Hanuman.
संकट कटै मिटै सब पीरा, जो सुमिरै हनुमत बलबीरा॥36॥हे वीर हनुमान जी! जो आपका सुमिरन करता रहता है, उसके सब संकट कट जाते है और सब पीड़ा मिट जाती है।Difficulties Disappear and Sorrows are Removed,
For Those who Contemplate on the Powerful Sri Hanuman.
जय जय जय हनुमान गोसाईं, कृपा करहु गुरु देव की नाई॥37॥हे स्वामी हनुमान जी! आपकी जय हो, जय हो, जय हो! आप मुझ पर कृपालु श्री गुरु जी के समान कृपा कीजिए।Victory, Victory, Victory to You, O Hanuman,
Please Bestow your Grace as our Supreme Guru.
जो सत बार पाठ कर कोई, छूटहि बंदि महा सुख होई॥38॥जो कोई इस हनुमान चालीसा का सौ बार पाठ करेगा वह सब बंधनों से छूट जाएगा और उसे परमानन्द मिलेगा।Those who Recite this Hanuman Chalisa one hundred times (with devotion),
Will get Freed from Worldly Bondage and get Great Happiness.
जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा, होय सिद्धि साखी गौरीसा॥39॥भगवान शंकर ने यह हनुमान चालीसा लिखवाया, इसलिए वे साक्षी है, कि जो इसे पढ़ेगा उसे निश्चय ही सफलता प्राप्त होगी।Those who Read the Hanuman Chalisa (with devotion),
Will become Perfect, Lord Shiva is the Witness.
तुलसीदास सदा हरि चेरा, कीजै नाथ हृदय मंह डेरा॥40॥हे नाथ हनुमान जी! तुलसीदास सदा ही श्री राम का दास है। इसलिए आप उसके हृदय में निवास कीजिए।Tulsidas who is Always the Servant of Hari.
Prays the Lord to Reside in his Heart.
पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप। राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सूरभूप॥हे संकट मोचन पवन कुमार! आप आनंद मंगलों के स्वरूप हैं। हे देवराज! आप श्री राम, सीता जी और लक्ष्मण सहित मेरे हृदय में निवास कीजिए।Sri Hanuman, who is the Son of Pavana, who Removes Difficulties,
Who has an Auspicious Form,
With Sri Rama, Sri Lakshmana and Devi Sita,
Please Dwell in my Heart.
Hanuman Chalisa Chaupais and its meanings

You may also like : Shri Ardhagiri Veeranjanaya swamy temple

We hope you liked this article, Hanuman Chalisa meaning in Hindi and English. Jai Shri Ram, Jai Shri Hanuma

 4,673 total views,  2 views today

error: Content is protected !!