Satyanarayan Bhagwan ki Aarti – सत्यनारायण भगवान जी की आरती ( satyanarayan aarti lyrics in hindi )

Satyanarayan Bhagwan ki Aarti – Friends, please find Shri satyanarayan aarti lyrics in hindi , satyanarayan aarti lyrics in english and Shri Ramchandra aarti lyrics !

Satyanarayan Bhagwan ki Aarti – satyanarayan aarti lyrics in hindi

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी जय लक्ष्मीरमणा |
सत्यनारायण स्वामी ,जन पातक हरणा || जय लक्ष्मीरमणा

रत्नजडित सिंहासन , अद्भुत छवि राजें |
नारद करत निरतंर घंटा ध्वनी बाजें ॥
ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी….

प्रकट भयें कलिकारण ,द्विज को दरस दियो |
बूढों ब्राम्हण बनके ,कंचन महल कियों ॥
ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..

दुर्बल भील कठार, जिन पर कृपा करी |
च्रंदचूड एक राजा तिनकी विपत्ति हरी ॥
ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..

वैश्य मनोरथ पायों ,श्रद्धा तज दिन्ही |
सो फल भोग्यों प्रभूजी , फेर स्तुति किन्ही ॥
ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..

भाव भक्ति के कारन .छिन छिन रुप धरें |
श्रद्धा धारण किन्ही ,तिनके काज सरें ॥
ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..

ग्वाल बाल संग राजा ,वन में भक्ति करि |
मनवांचित फल दिन्हो ,दीन दयालु हरि ॥
ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..

चढत प्रसाद सवायों ,दली फल मेवा |
धूप दीप तुलसी से राजी सत्य देवा ॥
ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..

सत्यनारायणजी की आरती जो कोई नर गावे |
ऋद्धि सिद्धी सुख संपत्ति सहज रुप पावे ॥
ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी जय लक्ष्मीरमणा|
सत्यनारायण स्वामी ,जन पातक हरणा ॥ जय लक्ष्मीरमणा


Satyanarayan Bhagwan ki Aarti – satyanarayan aarti lyrics in english

Om Jai Lakshmi Ramana, Swami Jai Lashmi Ramana |
Satyanarayan Swami, Satyanarayan Swami, Jan Patak Harana || Jai Lakshmi Ramana

Ratan Ja Rat Singhasan, Adhbut Chabee Rajey, Swami Adhbut Chabee Rajey |
Narad Kahat Niranjan, Narad Kahat Niranjan, Ghanta dhun bhajey ||
Jai Lakshmi Ramana

Pragat Bhaye Kali Karan, Dwij Ko Daras Diya Swami Dwij Ko Daras Diya |
Budha Brahman Bankey, Budha Brahman Bankey, Kanchan Mahal Kiya ||
Jai Lakshmi Ramana

Durbal Bhil Kathier, Jan Par Kripa Karey Swami Jan Par Kripa Karey |
Chandra Choor Ik Raja, Chandra Choor Ik Raja, Jinaki Vipat Hare ||
Jai Lakshmi Ramana

Vaishya Manorath Payo, Shradha Uj Dini Swami Shradha Uj Dini |
So Fal Bhogyo Prabhuji, So Fal Bhogyo Prabhuji, Fer Ustati Kini ||
Jai Lakshmi Ramana

Bhav Bhakti Ke Karan, Chhin Chhin Roop Dharya Swami Chhin Chhin Roop Dharya |
Sharda Dharan Kini, Sharda Dharan Kini, Tin Ka Karj Sarya ||
Jai Lakshmi Ramana

Gwal Bal Sang Raja, Ban Mein Bhagti Karey Swami Ban Mein Bhagti Karey |
Man Vanchit Fal Dino, Man Vanchit Fal Dino, Deen Dayal Harey ||
Jai Lakshmi Ramana

Charhat Prasad Sawayo, Kadali Fal Mewa Swami Kadali Fal Mewa |
Doop Deep Tulsi Se, Doop Deep Tulsi Se, Raje Sat Deva||
Jai Lakshmi Ramana

Shri Satya Narayan Ji Ki Aarti jo koi gaa~vey Swami jo koi gaa~vey |
Kahat Shivanand Swami, Kahat Shivanand Swami Man Vanchhit Fal Pave ||
Jai Lakshmi Ramana

Om Jai Lakshmi Ramana, Swami Jai Lashmi Ramana |
Satyanarayan Swami, Satyanarayan Swami, Jan Patak Harana || Jai Lakshmi Ramana


Beautiful Bhagwan Shri Satyanarayan Phtoframe for you:


shri ramchandra ji ki aarti – shri ram chandra aarti lyrics in hindi

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

पहली आरती पुष्‍प की माला

पहली आरती पुष्‍प की माला

पुष्‍प की माला हरिहर पुष्‍प की माला

कालिय नाग नाथ लाये कृष्‍ण गोपाला हो।

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

दूसरी आरती देवकी नन्‍दन

दूसरी आरती देवकी नन्‍दन

देवकी नन्‍दन हरिहर देवकी नन्‍दन

भक्‍त उबारे असुर निकन्‍दन हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

तीसरी आरती त्रिभुवन मोहे  

तीसरी आरती त्रिभुवन मोहे

त्रिभुवन मोहे हरिहर त्रिभुवन मोहे हो

गरुण सिंहासन राजा रामचन्‍द्र शोभै हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

चौथी आरती चहुँ युग पूजा

चौथी आरती चहुँ युग पूजा

चहुँ युग पूजा हरिहर चहुँ युग पूजा

चहुँ ओरा राम नाम अउरु न दूजा हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

पंचम आरती रामजी के भावै

पंचम आरती रामजी के भावै

रामजी के भावै हरिहर रामजी के भावै

रामनाम गावै परमपद पावौ हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

षष्‍ठम आरती लक्ष्‍मण भ्राता

षष्‍ठम आरती लक्ष्‍मण भ्राता

लक्ष्‍मण भ्राता हरिहर लक्ष्‍मण भ्राता

आरती उतारे कौशिल्‍या माता हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

सप्‍तम आरती ऐसो तैसो

सप्‍तम आरती ऐसो तैसो

ऐसो तैसो हरिहर ऐसो तैसो

ध्रुव प्रहलाद विभीषण जैसो हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

अष्‍टम आरती लंका सिधारे

अष्‍टम आरती लंका सिधारे

लंका सिधारे हरिहर लंका सिधारे

रावन मारे विभीषण तारे हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

नवम आरती वामन देवा

नवम आरती वामन देवा

वामन देवा हरिहर वामन देवा

बलि के द्वारे करें हरि सेवा हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

कंचन थाल कपूर की बाती

कंचन थाल कपूर की बाती

कपूर की बाती हरिहर कपूर की बाती

जगमग ज्‍योति जले सारी राती हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

तुलसी के पात्र कण्‍ठ मन हीरा

तुलसी के पात्र कण्‍ठ मन हीरा

कण्‍ठ मन हीरा हरिहर कण्‍ठ मन हीरा

हुलसि हुलसि गये दास कबीरा हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।

जो राजा रामजी के आरती गावै

जो राजा रामजी के आरती गावै

आरती गावै हरिहर आरती गावै

बैठ बैकुण्‍ठ परम पद पावै हो

आरती कीजै राजा रामचन्‍द्र जी के

हरिहर भक्ति का रघु संतन सुख दीजै हो।


 241 total views,  2 views today

Leave a Comment

error: Content is protected !!